जिंदगी


जिंदगी ही दर्द है, दर्द ही जिंदगी
हमने तो बस उसे कागज़ पे उतार दिया।

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

दुल्हन


हारे ऐसे की जमाने ने मज़ाक बना दिया
फिर जीते भी ऐसे की जमाना मज़ाक बन गया.

मगर इस हार – जीत में दोस्तों
हाथों से कुछ फिसल गया.

यह सही है की वक्त भर देता है जख्मों को
मगर वक्त ने ही जाने क्यों जख्मों को हरा छोड़ दिया?

हमने ख्वाब सजाएं जिन हाथों को थामकर
उन्ही हाथों ने, उन ख़्वाबों को हमसे चुरा लिया।

इश्क़ जब भी बेपनाह हुआ है
जमाने से पहले हुस्न ने उसे ठोकर लगा दिया।

चंद मुलाकातों का शौक मोहब्बत नहीं
क्या समझेंगे वो जिन्होंने हर रात नया सेज सजा लिया?

तड़प क्या होती है दिल की उस जिस्म से पूछो?
जिसकी मोहब्बत को किसी और ने अपनी दुल्हन बना लिया।

वो चढ़ गयी डोली बिना एक पल भी सोचे
जाने हुस्न ने कैसे खुद को इतना कठोर बना लिया?

 

परमीत सिंह धुरंधर

खानदानी


शहर भर से मेरा पता मत पूछ
ये दुश्मनी खानदानी है.
पिलाना है तो खुलकर पीला
ये अपनी प्यास पुरानी है.

तेरे जिस्म पे वो रख सकते हैं
सोने – चांदी, हीरे – जवाहरात
पर तुम्हारे वक्षों पे वो दाग
वो तो अमिट एक निशानी है..

परमीत सिंह धुरंधर

समझती नहीं है इश्क़ को लड़कियाँ


धुप में छावं की गरज किसको नहीं
जिस्म हो जवान तो तलब किसको नहीं
समझती ही नहीं है इश्क़ को लड़कियाँ
चाहती है सलमान जो आज तक हुआ किसी का नहीं।

 

परमीत सिंह धुरंधर

पतली कमर का सिहरना हुआ – 2


शर्म – लज्जा वस् मैं तट पे ही रही
उसका निर्वस्त्र – मग्न
लहरों से खेलना, लहरों में तैरना हुआ.

 

परमीत सिंह धुरंधर