बटन टूट रहा है


वक्त कुछ ऐसे मुझ पे सितम कर रहा है,
की हर शख़्स मुझसे मुख मोड़ रहा है.
क्यों ना हो शहर में चर्चा तेरे हुस्न का?
हर रात जो तेरी चोली का बटन टूट रहा है.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

चलते रहना है जीवन में


चलते रहना है जीवन में,
आँधियों में, तूफ़ान में.
डटे रहना है भीष्म सा,
चाहे गोविन्द ही हों मैदान में.
हम राजपूत हैं, झुक सकते नहीं,
चाहे मौत मिले पुरस्कार में.

चलते रहना है जीवन में,
धुप में, छावं में.
डटे रहना है कर्ण सा,
चाहे अन्धकार ही लिखा हो भाग्य में.
कब औरत ने भला किया है?
जो दंश रहे इस विरह का.
मैंने तो रोते देखा है,
विश्वामित्र – परुवरा, सबको प्रेम में.
डटे रहना है राम सा,
बस अपने पथ पे.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Give me the cloth


O baby, O baby,
Give me the cloth.
I want to fly,
High on the road.
Let the stars,
And the moon see,
How I am pretty and beautiful.
Just hold my waist,
And be with me,
I will drive you slowly.

O baby, O baby,
Give me the hold.
I want to fly,
High on the road.
I have no fear,
No shyness,
I am in love,
With this darkness.
O baby, O baby,
Give me the support.
I want to fly,
High on the road.

 

Parmit Singh Dhurandhar

 

 

मेरा अहंकार


इसी दोस्ती का मुझे इंतज़ार था,
इसी दोस्ती से मुझे प्यार है.
हर समीकरण को बदला है मैंने,
यही तो मेरा अहंकार है.

यूँ ही नहीं मैं जलजला हूँ आँधियों का,
राहें बदलीं हैं तूफानों ने मेरे लिए.
अकेला ही सही मगर खड़ा हूँ मैं,
हिमालय को भी ये एहसास है.

 

परमीत सिंह धुरंधर

इंतज़ार


गुले – गुलशन को सँभालते हैं वो,
जिनके इंतज़ार में दम निकला मेरा।
ज़माने भर की हया लेकर मिले वो,
जब भी मिले,
बस हम ही से रहा एक घूँघट उनका।

 

परमीत सिंह धुरंधर