ताज


मोहब्बत वो शौक है जालिम,
जो सिर्फ जमाने को दिखने के लिए है.
वरना उनके आगोश में गए,
अब तो जमाने गुजर गए.
ताज भी बनाया तो उनकी मौत के बाद,
एक सुकून पाने में जिनको जमाने गुजर गए.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

काफ़िर और ताज


सुबह के इंतज़ार में रात भर बैठे रहें,
काफ़िर ये नहीं तो कौन है?
जो एक दिया तक नहीं जला पाएं.
इनसे अच्छे तो वो हैं,
झूठा ही सही, कुछ ख़्वाब तो देखते हैं.
एक की मोहब्बत में, ताज बना गए,
अरे काफ़िर ये नहीं तो कौन है?
जो कितनों का पेट कुचल गए.
ऐसी मोहब्बत किस काम की?
उनकी जुल्फों का शौक किस काम का?
वो बदलती है गजरा,
अपने हर रात की शौक में,
अरे काफ़िर ये नहीं तो कौन है?
जो कितने भौरों को मार गए.

परमीत सिंह धुरंधर