जय सूर्य देव


लाल देह अंगार बसे,
गुरु लाल अंगूर के,
लाली देह शक्ति मांगे,
कहें सुरपति,
जय- जय लाल नारायण की.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements