Shambhavi:A promise impeccable


A promise impeccable
By me to you
A promise to be by your side true
A promise to be together by life’s
thick and thin,
A promise to love till the life’s brim,
A promise to walk hand in hand,
A promise to be honest in tiniest
strand,
A promise to be there
In your hardest times,
A promise to share your lovliest
rhymes,
A promise from dawning tday till
Tomorrow,
A promise to be here even if you
go,
A promise impeccable from me to
you

Written by the sweetest person in this world for me. Its a memory I will always cherish.

Parmit Singh Dhurandhar

Advertisements

पुणे – प्रेम


पुणे के अपने वीरान खंडहरों में,
एक आलिशान महल बनाकर।
तुम्हे अपने बाहों में भरकर प्रिये,
जब मैं चुम्बन करूँगा।
तो बादल उमड़ – उमड़ कर,
और कलियाँ कम्पित हो कर,
क्षितिज तक लालिमा प्रदान करेंगे।
जब तुम्हारी भीगी – भीगी,
जुल्फों की हर गाँठ को,
मेरी साँसें अपनी ऊष्मा प्रदान करेंगी।
तो हर दिशा से हवाएँ प्रखर हो कर,
मेरु पर्वत तक,
नस – नस में कम्पन का आवाहन करेंगीं।
बस इंतज़ार करों अपने मिलन का,
मेरे प्रेम के मधुर बाणों पे पुलकित,
तुम्हारे योवन से।
उषा से रात्रि तक,
स्वयं प्रकृति भी रंज करेंगी।

परमीत सिंह धुरंधर