सुग्गा


सुग्गा पकरले बानी एगो बगइचा में,
आ व अ न सखी, तोहके दिखाईं,
बोलेला मिठू कइसन हमरा कहला में.
एके नजर डालनी त अ भूल गइल,
पंख पसारल, की छोड़ के अब आपन,
घर- द्वार बइठल बा हमरा आसरा में.
आवअ न सखी, तोहके दिखाईं, बोलेला
मिठू धुरंधर कइसन हमरा कहला में.

Advertisements