माँ सरस्वती और मेरी कलम


लिखता हूँ तो लिख देता हूँ,
जिंदगी को हर तकाजे में.
ये ऐसा गुलिस्तां हैं दोस्तों,
जहाँ प्यास मिटती नहीं,
बस जिस्म के मिल जाने से.
ओठों को चख – चख के,
कितने मायूस हैं इस गलियारे  में.
जो  ठोकरों में भी मुस्कराए,
वैसे कमल को खिलता हूँ अपनी कलम से.
माँ सरस्वती का भक्त हूँ मैं,
मेरी आँखों को बस उनकी ही लालसा।
उनके चरणों को चुम लूँ,
तो मीट जाए मेरी हर तृष्णा।
ऐसे ही दुःस्वप्न ले कर,
भटक रहा हूँ जीवन के मरुस्थल में.

 

परमीत सिंह धुरंधर

This is just to explain that life is not only for success in professional life, in relationship. It is beyond that to understand the connection with the source of energy.

जय माँ शारदे


जय माँ शारदे,
विद्या-बुद्धि,
मेरे मस्तक में भर दे.
ह्रदय की धड़कनों में,
हो आपकी वीणा की झंकार।
और साँसों में मेरे मैया,
संस्कार भर दे.
आँखों में हो रौशनी,
धर्म-ज्ञान की.
और मेरे धमनियों में,
परोपकार भर दे.

परमीत सिंह धुरंधर

जय माँ सरस्वती


जय माँ सरस्वती,
मुझे प्यार दीजिये।
इस जीवन में मुझे,
संपूर्ण ज्ञान दीजिये।
वेद पढूं, पुराण पढूं,
उपनिषद तक पढ़ जाऊं।
उम्र छोटी हो, पर
मस्तक विशाल दीजिये।
देह को पीड़ा मिले तो मिले,
पर मन को विद्या-दान दीजिये।
जय माँ सरस्वती,
मुझे प्यार दीजिये।
इस जीवन में मुझे,
संपूर्ण ज्ञान दीजिये।

 

परमीत सिंह धुरंधर

माँ सरस्वती


माँ मुझे चारों वेदों का ज्ञान दें,
कुछ और नहीं,
मस्तिक में बस इन्ही का प्रवाह दें.
जीवन भी सुख जाएँ जहाँ जाकर,
वहां तक आप मेरा साथ दें.
माँ मुझे चारों वेदों का ज्ञान दें.

परमीत सिंह धुरंधर