झोपडी में गणित.


सखा, बंधू, न मित्र चाहिए,
एक घर और भाई-बहन का संगीत चाहिए।
हँसते रहें, हंसाते रहें,
थक जाएँ, तो गणित पढ़ाते रहें।
धन, दौलत, न जन्नत चाहिए,
झोपडी में भी, भाई-बहन का साथ चहिये.
खाते रहें, खिलातें रहें,
थक जाएँ, तो गणित पढ़ाते रहें, परमित।

Advertisements