मेरी माँ से मधुर, जग में कुछ भी नहीं


mom

मेरी माँ से मधुर, जग में कुछ भी नहीं।
मेरे पिता से चतुर, जग में कोई नहीं।
उनकी संतान मैं, मुझ सा प्रबल,
विकट – विरल, इस धरा पे कोई नहीं।

मेरी माँ से निर्मल, कोई गंगा नहीं,
मेरे पिता से प्रखर कोई सूर्य नहीं।
उनकी संतान मैं, मुझ सा अहंकारी,
अभिमानी, उन्मादी, उस सृस्टि में कोई नहीं।

मेरी माँ से सुन्दर, इस ब्रह्माण्ड में कोई नहीं।
मेरे पिता से तेजस्वी, इस त्रिलोक में कोई नहीं।
उनकी संतान मैं, मुझ सा धुरंधर,
भयंकर, और विशाल समुन्दर, कोई नहीं।

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

खटमल बन गइल बा इ खाट रजऊ


रखलीं हमारा के रतिया में पास रजऊ,
की खटमल बन गइल बा इ खाट रजऊ.
चूसअता खून हमार अंग – अंग से,
पोरे – पोरे देता इ दाग रजऊ.
पूरा होत नइखे निंदिया कहियों हमार,
टूट जाता रोजे कच्चे ख्वाब रजऊ.
रखलीं हमारा के रतिया में पास रजऊ,
की खटमल बन गइल बा इ खाट रजऊ.
अइसे मत काटअ जवानी विरह में,
मिलल बा इ जीवन बड़ा ख़ास रजऊ.
कब तक रहेम सन बन के चाचा – चाची,
पलना में दे दीं एकठो लाल रजऊ.
ना त बुढ़ापा में हो जाएम टुअर – टॉपर,
छोड़ दीं इ सत्ता और ताज रजऊ.
रखलीं हमारा के रतिया में पास रजऊ,
की खटमल बन गइल बा इ खाट रजऊ.

 

परमीत सिंह धुरंधर

कमर पे चोटी लटके, वीणा में तार जैसे to वेणी उसके नितम्बों पे, सम्मोहन का मोहनी बाण लिए : A tribute to my father


It is a rare combination that a father – son pair has same passion or interest until it comes to politics, business and film industry.
When I was in high school, one day, I told my father, “I don’t have any quality whereas my friends are so much talented, smart and handsome. I feel bad.” My father in his characteristic smile narrated two of his poems and taught me how to write poems. It was first time he explained me the meaning of love and beauty by just telling his two lines (“वो कटे चने के खेत, अनुपम तेरा बलिदान.”) of his poem that he wrote during his school life. He had not remembered the whole poem nor he had saved any of his poems by writing. By his second poem, he taught me to write on girl. The lines from his second poem are:
मुख मोड़ कर खड़ी है, समझाऊं कैसे?
दिल तोड़ कर खड़ी हैं, मनाऊं कैसे?
कमर पे चोटी लटके, वीणा में तार जैसे।
बीच में लक्ष्मण रेखा पड़ी है, पास जाऊं कैसे।
(https://hotcrassa.wordpress.com/2017/09/17/%e0%a4%b5%e0%a5%80%e0%a4%a3%e0%a4%be-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%a4%e0%a4%be%e0%a4%b0-%e0%a4%9c%e0%a5%88%e0%a4%b8%e0%a5%87/)
Later, to pay my tribute to him, I used his lines “ वो कटे चने के खेत, अनुपम तेरा बलिदान” and made a full poem.
वो कटे चने के खेत, अनुपम तेरा बलिदान।
तेरे ही योवन पे, जी रहा है किसान।
जब- जब तेरे ह्रदय पे, किया है मैंने प्रहार,
तूने अपनी ममता से, भर दिया है मेरा खलिहान।
वो कटे चने के खेत, अनुपम तेरा बलिदान।
तेरी ही अंगराई से, है मेरे मूछों का अभिमान।
जब-जब आया हूँ दर पे तेरे, मैं भूखा, खाली हाँथ,
तूने लूटा कर खुद को, भर दिया है मेरा आँगन और बथान।
वो कटे चने के खेत, अनुपम तेरा बलिदान।
तेरे ही आँचल में, मुस्काता है परमीत इंसान।
(https://hotcrassa.wordpress.com/2014/04/11/%e0%a4%85%e0%a4%a8%e0%a5%81%e0%a4%aa%e0%a4%ae-%e0%a4%a4%e0%a5%87%e0%a4%b0%e0%a4%be-%e0%a4%ac%e0%a4%b2%e0%a4%bf%e0%a4%a6%e0%a4%be%e0%a4%a8/)
However, I always wanted to write something on girl by keeping his style and view and just by changing words. I used his lines “कमर पे चोटी लटके, वीणा में तार जैसे।” and wrote “वेणी उसके नितम्बों पे, सम्मोहन का मोहनी बाण लिए ” in my recently written poem which has following lines:
समीकरण बदल रहें है भूमण्डल के, पुष्पित – पुलकित उसके यौवन से.
दो नयन, इतने उसके निपुण, कण – कण में रण के,
क्षण – क्षण में, हर इक पल में. पूरब – पश्चिम, उत्तर – दक्षिण में,
तैर रहे हैं तीर, उसके तरकश के.
कट रहे, मिट रहे, कोई अर्जुन नहीं, अब कोई कर्ण नहीं।
सब जयदर्थ सा छिप रहे, भय लिए मन में.
अधरों पे मुस्कान लिए, वक्षों पे गुमान लिए.
वेणी उसके नितम्बों पे, सम्मोहन का मोहनी बाण लिए.
आतुर हो, व्याकुल हो, सब चरण में उसके,
सब शरण में उसके, गिड़ रहे, पड़ रहे.
आखों की आतुरता, मन की व्याकुलता,
देख पौरष की ऐसी विवशता।
देव – दानव – मानव, पशु – पक्षी,
स्वयं ब्रह्मलोक में ब्रह्मा भी,
रच रहे हैं श्लोक उसके रूप के गुणगान में.
(https://hotcrassa.wordpress.com/2017/09/13/%e0%a4%b5%e0%a5%87%e0%a4%a3%e0%a5%80-%e0%a4%89%e0%a4%b8%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%a4%e0%a4%ae%e0%a5%8d%e0%a4%ac%e0%a5%8b%e0%a4%82-%e0%a4%aa%e0%a5%87-%e0%a4%b8%e0%a4%ae%e0%a5%8d/)
This is my tribute to him as a father, as a friend and as a teacher, who taught me writing. At that time, I did not understand why he wanted me to develop skills in writing. However, now, I see this as a boon or best gift from him to live life during difficult phase.

 

Parmit Singh Dhurandhar

 

सिलिकॉन – ट्रांसप्लांट ह्रदय में करवाती


अगर मोहब्बत में लड़कियाँ,
जिस्म को नहीं ह्रदय को देखतीं।
तो सिलिकॉन – ट्रांसप्लांट वक्षों में नहीं,
ह्रदय में करवाती।

अगर लड़कियों की मोहब्बत में,
मीरा – राधा सा प्रेम होता, और वासना न होती,
तो वो प्रेम में उम्र और जवानी ना देखतीं।

अगर लड़कियाँ इश्क़ में,
आशिकों का जेब ना टटोलती।
तो सैनिकों को राखी नहीं, प्रेम – पत्र भेजतीं।

 

परमीत सिंह धुरंधर

नाक की नथुनी कही और से ही तुड़वा लिया


मेरी वफ़ा का सिला उसने कुछ ऐसे दिया,
मेरे बागों के फूल से गजरा गुंथा,
और किसी के सेज पे उसे तोड़ दिया।
आँखों की शर्म – हया थी बस मेरे लिए,
जुल्फों की छाँव किसी और को ओढ़ा दिया।
रूठ – रूठ कर मांगती थीं पायल – कंगन मुझसे,
और नाक की नथुनी कही और से ही तुड़वा लिया।

 

परमीत सिंह धुरंधर

लड़कियाँ काबिल ही नहीं होती हैं


लड़कियाँ काबिल ही नहीं होती हैं,
वो श्रेष्ठ होती हैं, सर्वश्रेष्ठ होतीं हैं.
मगर इश्क़-मोहब्बत और वफ़ा में बस,
वो नेक नहीं, शरीफ नहीं, बल्कि फेक होती हैं.

 

परमीत सिंह धुरंधर

सेठ


हुस्न से बड़ा कोई फरेब नहीं,
और इश्क़ से बड़ा कोई एब नहीं।
जो निकल जाते हैं इन दोनों से बचकर,
उनसे बड़ा कोई सेठ नहीं।

 

परमीत सिंह धुरंधर