I am lying on the floor


I am lying on the floor,
Cannot live now any more,
So come back baby,
And, give me a kiss,
I want you on my lips.
Don’t be egoistic and rude to me,
Leave your ego,
But don’t leave me.
Why cannot we be together?
Once again,
Why cannot we walk holding each other?
Once again,
Why cannot you listen me?
Like the way you did in the beginning.
I am dying on the floor,
Cannot live without you any more,
So come back baby,
And, give me a kiss,
I want you on my lips.

Parmit Singh Dhurandhar

चुम्बन : दांतों का खेल


वो एक कातिलाना,
अंदाज रखती हैं,
मेरे लहू की,
एक प्यास रखती हैं.
लोग कहते हैं जिसे मोहब्बत,
उस शम्रो-हया के पीछे जाने,
वो क्या -क्या ख़्वाब रखती हैं.
वो टकराती हैं राहों में,
अपना दुप्पट्टा लहरा के.
हम अपनी नजरे झुका के चलें,
तो भी शरीफ नहीं।
अपनी शराफत के पीछे जाने,
वो कैसे-कैसे नकाब रखती हैं.
दांतों का खेल है,
चुम्बन मोहब्बत में,
तभी तो बुड्ढों पे वो,
खिलखिला के हंसती हैं.
हम जैसे जवानों की जल रही है,
हसरते कुवारीं।
और ओठों की अपने ही दाँतो से,
वो दबा के रखती हैं.

परमीत सिंह धुरंधर

Kissing your partner has no meaning if your teeth are not involved in that.