Mayawati: A leader with no confidence and charisma


Mayawati lost the election of RS despite the support of the Samajwadi Party. She even asked Akhilesh Yadav to fix 10 loyal MLAs from SP to vote for BSP in election. And that was the lowest level of desperation, low confidence and doubt on alliance in political system that I have never seen. That still continues and that’s the reason she is not able to confess that a young leader made her fool. This also proves that Akhilesh Yadav is a very sharp player of politics and he can defeat anyone in mind game from his father, uncle and now Mayawati.

In this alliance, Mayawati was in compromising condition from beginning and that the reason she is shallowing everything just to survive in long run. Here, I am giving point wise her mistakes she made in this alliance and this was because Akhilesh knows that she cannot dictate rules for alliance. BSP has to play the role of supporting actor even if Mayavati is senior player.

  1. There were four possible ways for alliance between BSP and SP before LS and RS:
  2. 1 LS + 1 RS for both SP and BSP
  3. 1 LS + 2 RS for SP and 1 LS for BSP
  4. 2 LS for SP and 2 RS for BSP
  5. 2 LS for SP and 10th seat of RS for SP and secure 9th seat of RS for BSP
  6. 2 LS + 1 RS for SP and 10th seat of RS for BSP.
  7. 2 LS +1 RS for SP and no BSP candidate

The option e was impossible because the total vote was always less than 37 for BSP despite the support of SP and congress. Also, they were aware that BJP could win with second choice in that case. Knowing all these, she chose option e and not f, which only explain that she was blindly believing for miracle and hoping that BJP would not file for 10th candidate.

In my opinion, she was made fool by Akhilesh by convincing her that BJP would win easily the by-election in LS. That’s the reason she accepted 1 RS candidate for each party. In fact, she should have waited for RS alliance till LS results.

  1. It is obvious to everyone that she was cheated and made fool by SP. Instead of accepting that she went on to blame BJP for promoting the police officer who was SSP of Lucknow during the famous guest-house episode. This shows that she is suffering with low confidence and begging for the power. Atal jee did not inducted Ram Krishna Hegde in his cabinet when he formed his second government because Ram Krishna Hedge was trying to make a third front government when Atal jee lost the vote of confidence in LS. Ram Krishna Hedge was trying to become PM and Atal jee had confidence to get the majority by facing election. So, Ram Krishna Hedge was trying to kill his chance by breaking the trust of alliance and Atal jee never trusted again ad he was not willing to gain the power by losing the respect.

So, this is the lowest political level of Mayawati where she is not able to think anything and desperately wants some miracle which is odd as leader should change the situation and not live in the situation.

 

Parmit Singh Dhurandhar

Advertisements

कमल को पुलकित कर देंगे


हम हर तस्वीर को बदल देंगें,
सबकी तकदीर को बदल देंगे।
हम योगी ही नहीं, वैरागी भीं है,
कण-कण में कमल को पुलकित कर देंगे।
वो जो कहतें हैं की मेरी छवि दागदार है,
उनके गिरेवान में देखिये, कितने आस्तीन के साँप हैं.
हम दिन के ही नहीं, बल्कि उनके रातों के गुनाह को भी,
सरे आम, उजागर कर देंगे।
हम योगी ही नहीं, वैरागी भीं है,
जन्नत – से -जहन्नुम तक की सब राहें समतल कर देंगे।
हम योगी ही नहीं, वैरागी भीं है,
कण-कण में कमल को पुलकित कर देंगे।

 

परमीत सिंह धुरंधर

शहादतों को सरहदों में मत बांटों


शहादतों को सरहदों में मत बांटों,
भगत सिंह और चंद्रशेखर आज़ाद,
भारत की आज़ादी के लिए लड़े थे,
ना की हिन्दू कौम के लिए.
सुभाषचंद्र बोस की लड़ाई ब्रिटिशों से थी,
ना की मुस्लिमों से.
फिरकापरस्त है वो लोग जो, धर्म और क्षेत्र में,
बाँट रहे हैं देशभक्तो को.
अस्फाकुल्लाह खान हों या टीपू सुलतान,
सब भारत की शान हैं.
उनकी शहादत भारत के लिए थी,
ना की मजहब और अपने कौम के लिए.

 

परमीत सिंह धुरंधर

सरदार और गाँधी


सरदारों की जमीन पे कुछ गलत होता नहीं,
ये नहीं होते, तो गांधी भी यहाँ पूजे जाते नहीं।
हाल वही होता जो हो रहा है तिब्बत का,
बिना इनके बलिदानो के हम आज़ाद होते नहीं।
वो हैं की,
हमारी आज़ादी को अपनी भेंट और हक़ बताते हैं.
ये हैं की अपना सबकुछ लुटा कर भी,
आज तक कुछ भी जताते नहीं, मुह खोला नहीं।
बंटवारा जिन्होंने स्वीकार किया सरहदों का,
अगर वो इतने धर्मनिरपेक्ष थे,
तो इनका ख़याल आया क्यों नहीं?
सरदारों की जमीन पे कुछ गलत होता नहीं,
ये नहीं होते, तो गांधी भी यहाँ पूजे जाते नहीं।

 

परमीत सिंह धुरंधर

स्त्री


सत्य की पूजा नहीं होती,
धर्म की चर्चा नहीं होती।
वेदों को जरूरत नहीं,
जिन्दा रहने के लिए,
की मनुष्य उसे पढ़ें।
वेदों की उत्पत्ति,
मनुष्यों से नहीं होती।
तैमूर, चंगेज, क्या?
सिकंदर भी थक गया था,
यहाँ आके.
ये हिन्द है,
यहाँ तलवारो के बल पे,
तकदीरें सुशोभित नहीं होती।
वो जितना भी सज ले,
तन पे आभूषण लाद के.
मगर, यहाँ, बिना शिशु को,
स्तनपान कराये,
नारी कभी पूजित नहीं होती।
घमंड किसे नहीं,
यहाँ सृष्टि में.
बिना अहंकार के,
सृष्टि भी शाषित नहीं होती।
तीक्ष्ण बहुत है तीर मेरे,
मगर बिना तीक्ष्ण तीरों के,
शत्रु कभी पराजित नहीं होती।
मुझे संतोष है,
की वो वेवफा निकली।
क्यों की बिना बेवाफ़ाई के,
कोई स्त्री कभी परिभाषित नहीं होती।

 

परमीत सिंह धुरंधर

हमें JNU नहीं, नालंदा चाहिए


हमें JNU नहीं,
नालंदा चाहिए।
तुम मांगते हो,
फ्रीडम ऑफ़ स्पीच,
हमें लोहिया चाहिए।
तुम चाहते हो दीवारें,
की साजिशें रचो.
हमें खुले आसमा के,
तले छत चाहिए।
तुम्हारे इरादें की हर फूल का,
अलग बगीचा हो.
हमें तो अनेक फूलों की,
एक ही माला चाहिए।
की अब वक्त आ गया है,
हमें चाणक्य चाहिए।
की हमें अफजल नहीं,
बस अशफाक चाहिए,
हर Crassa को अब यहाँ,
एक आफताब चाहिए।
अपनी आखिरी साँसों तक,
हिन्दू-मुस्लिम-सिक्ख-ईसाई,
सबको पूरा और एक हिन्दुस्तान चाहिए।

 

परमीत सिंह धुरंधर

 

 

कलम भी मौन रह गए


किसानों की ऐसी – की – तैसी करके,
गांधी की पार्टी चल रही है मुस्करा के.
झंडा उठा दिया है सत्ता के खिलाफ,
बस बीफ के मुद्दे को मुद्दा बना के.
दलितों के कपड़े फाड़ कर उनको,
नंगा कर दिया पुलिश वालो ने.
मोदी के मौन के खिलाफ,
साहित्य अकादमी आवार्ड लौटाने वाले,
कलम भी मौन रह गए,
हरिजनों के इस दमन पे.

परमीत सिंह धुरंधर