तो श्रवण बन जाओ


सरसों के खेतों में संस्कार नहीं मिलते,
आम के बगीचों में पुरस्कार नहीं मिलते।
समझना है अगर खुद को और पाना है रब को,
तो फ़कीर बन जाओ.
यहाँ यशोधरा तो मिलती हैं महलों में,
पर बुध नहीं मिलते।

किस्मत, कुँवारी किसी की नहीं,
दुल्हन में समझदारी, किसी की नहीं।
पाना है अगर सच्ची मोहब्बत,
तो श्रवण बन जाओ.
पैसा और वक्त, यहाँ, मित्र, शत्रु, पत्नी,
क्या – क्या नहीं बदल जाते।
बस एक माँ को नहीं बदल पाते।

 

परमीत सिंह धुरंधर

शौक समुन्द्रों का


यूँ ही नहीं मुझे शौक समुन्द्रों का,
कभी कभी तो उतरता हूँ लहरों में.
प्यास तो दरिया भी मिटा दे,
पर फेंक भी तो देती है किनारों पे.

 

परमीत सिंह धुरंधर

ताजमहल


मैंने चाहा है तुझे आवारा बनके,
तू मिटा दे मुझे अब बेवफा बनके।

माना की हसरते तेरी महफ़िल में कितनो को,
मगर तुझे भी कोई ठग जाएगा,
किसी दिन तेरा अपना बनके।

हुस्न की बिसात सिर्फ दो-रातों की,
जितना जलना है तू जल ले, शमा बन के.

तेरे यौवन से बढ़के कोई यौवन आएगा एक दिन ,
जो ले जाएगा तेरे परवाने को अपना कह के.

ताजमहल बनाते है जो इश्क़ में उन्हें क्या पता?
कितनो को दफ़न किया है तुमने सजना कह के.

 

परमीत सिंह धुरंधर

चाँद यूँ ही मुझसे खफा नहीं रहता


चाँद यूँ ही मुझसे खफा नहीं रहता,
उसे पता है की मेरी माँ का आँचल ही मेरा आसमा है.
वो यूँ ही नहीं गिनाता है,
रह – रह कर मेरे नाम को जाहिँलों में,
उसे पता है की ये शख्श आज भी माँ का दुलारा है।

 

परमीत सिंह धुरंधर

15 ऑगस्त


मैं 15 ऑगस्त को याद करता हूँ,
बाबा नागार्जुन को और गाता हूँ “आओ रानी, हम ढोयेंगे पालकी,”
क्यों की और कोई गान मुझे आजादी और गुलामी का भेद नहीं बताता।
महाराणा प्रताप को,
क्यों की मैं अकबर को महान नहीं मानता।
सिरोजदौला, टीपू सुलतान और असफाक को,
क्यों की मैं धर्मनिरपेक्षता को नहीं मानता।
हिमायूं को,
क्यों की मैं उसे मुग़ल नहीं मानता।
राजेंद्र प्रसाद और सरदार पटेल को,
क्यों की उनसे बड़ा बुद्धिजीवी कोई मुझे नहीं दिखता।
अजबदेह, पद्मावती, जीजाबाई को,
क्यों की मैं स्त्री को सम्मान देना नहीं जानता।
लाल बहादुर और इंदिरा गांधी को,
क्यों की मैं उनसे बड़ा नेता किसी को नहीं मानता।
राम मनोहर लोहिया को,
क्यों की जय प्रकाश नारायण की संपूर्ण क्रान्ति को सम्पूर्ण नहीं मानता।
और अंत में श्यामा प्रसाद मुख़र्जी और उनकी रोती हुई माँ को,
क्यों की भारत वर्ष में केवल एक नाथूराम हुआ है और केवल एक महात्मा की ह्त्या हुई है, मैं इसे नहीं मानता।

परमीत सिंह धुरंधर

हुस्न


हुस्न यूँ ही नहीं इठलाता है,
कितने खंजर चलाएं हैं इसने।
कोई प्यासा ही सो गया यहाँ,
कइयों को पिला के रुलाया है इसने।

 

परमीत सिंह धुरंधर

मेरी बीबी बिहारन


मैं बिहारी,
मेरी बीबी बिहारन।
मैं करूँ चूल्हा – चौकी,
वो ले धुप-सेवन।
मैं बिहारी,
मेरी बीबी बिहारन।

मेरी कमर झुक रही,
उसका नित खिलता यौवन।
चार-चार बच्चे,
मैं सम्भालूं।
और चालीस में भी,
उसे मांगे रितिक रोशन।
मैं बिहारी,
मेरी बीबी बिहारन।

मैं पढ़ा -लिखा हो कर भी,
अनपढ़ – गवार।
वो शुद्ध देशी,
मोह ले किसी का भी मन.
मैं बिहारी,
मेरी बीबी बिहारन।

मैं मदिरा मांगू,
वो पिलाये मट्ठा।
मैं बोलूं मुर्ग-मसल्लम,
तो वो खिलाये लिट्टी-चोखा।
पर मेरी साँसों को,
वो लगती, हर दिन ए-वन.
मैं बिहारी,
मेरी बीबी बिहारन।

मेरे वीरान जीवन की,
वो सुन्दर उपवन।
उसकी मुस्कान ही है,
मेरा तन-मन-धन.
मैं बिहारी,
मेरी बीबी बिहारन।

 

परमीत सिंह धुरंधर