आँखें


बदल दे जो खून को वो रिस्ता गुनाहों पे चलने को मजबूत करता है,
ये उनकी आँखें हैं दोस्तों जो मुझे हर गुनाह करने को मजबूर करता है.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements