कीमत


शोहरत पे वो चुनते हैं साथी,
कीमत लगा – लगा के.
और फिर ताउम्र रोते हैं,
उनको  बेवफा बता के.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements