ओ शाम्भवी


ओ शाम्भवी, वो शाम्भवी,
तुझसे ही है मेरी हर ख़ुशी।
संग ही तेरे खेलना है,
अब तो जीवन की हर होली।
सागर की लहरें हों,
और तुम हमारे साथ.
किनारों पे बैठें हम,
देखें एक साथ ये आसमान।
हर तारे की गिनती पे,
हो तेरे करीब आने का अहसास।
तेरे मिलने के बाद ही,
मेरी हर प्यास है बढ़ी.
ओ शाम्भवी, वो शाम्भवी,
तुझसे ही है मेरी हर ख़ुशी।

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements