रामाश्रय सिंह : एक योद्धा


चिलचिलाती धुप हो,
या हो कड़कड़ाती सर्दी।
बैल उसके बहते रहते,
ना सुनी पड़ी,
कभी उसकी धरती।
एक योद्धा था, एक योद्धा था,
रामाश्रय सिंह एक योद्धा था,
जिसके लिए रोई थी उसकी माटी।
गड़ासे चले, कुल्हाड़ी चली,
कोर्ट में चले कितने मुक़दमे।
फिर भी बाँध ना सके उस अकेले को,
सौ -सौ, भी एक बार, मिल के.
एक योद्धा था, एक योद्धा था,
जिसके लिए रोई थी उसकी माटी।
छपरा से कलकत्ता तक,
बस जिसके नाम की ही एक गूंज थी.
साभाओं -महासभाओं में जिसकी ही बस,
चली और बोलती थी.
एक योद्धा था, एक योद्धा था,
जिसके लिए रोई थी उसकी माटी।
ज्ञानी इतना ज्ञान में, जिसका न कोई सानी,
रामायण – महाभारत के किस्से,
जिसने सुनाये मुझे मुहजाबानी।
गर्व है मुझे की मेरे नस – नस में,
दौड़ता रुधिर, है उस योद्धा की निशानी।
एक योद्धा था, एक योद्धा था,
रामाश्रय सिंह एक योद्धा था,
जिसके लिए रोई थी उसकी माटी।

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements