भांग


योवन के धुप में,
तू ऐसे है खिल गयी.
जैसे अमीरों के बस्ती में,
गरीबों के चादर उड़ी.
तेरे अंगों पे ऐसे बहकने लगे,
मोहब्बत के परवाने।
जैसे छोटी सी बस्ती में,
होली में भांग हो बटी.

परमीत सिंह धुरंधर