मैं और मेरा बैल


कल रात पड़ी कड़ाके की ठंढ,
और मेरा बैल भूखा था.
मैं बीमार, पड़ा बिस्तर पे,
और वो नम आँखों से,
मुझे निहारता था.
रोटी तोड़ कर,
दाल में, निचोरता मैं.
और उसका नाद सुनसान था.
मैं खा रहा था, लज्जति, शर्म से,
सर को झुकाएं।
वो क्रोध से तमतमाये,
मुझ पे गुर्राता था.
आते – जाते राही, पडोसी,
लगा देते, नाद में भूसा और खल्ली।
सींगों से उनको उड़ाता,
मुँह दाबे, वो बैठा था.
आज निकली है,
एक अलग, उषा की किरण।
नस – नस में स्फूर्ति मेरे,
और ऊर्जा को पाकर,
मैंने जो बाँधा सर पे मुरेठा।
देख कर मेरे हाथों में हल,
भूखा पेट भी वो, नाद पे उछला हैं.
कल रात पड़ी कड़ाके की ठंढ,
फिर भी,
भूखे पेट वो, बहने को दौड़ा हैं.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements