प्यार


मैं रातों को जलता रहा,
वो दिन भर सुलगती रहीं।
ये प्यार ही तो है जिंदगी,
की हम मिल भी न सके दो घड़ी.
वो मुड़ – मुड़ के देखती रहीं,
मैं हर पल राहें बनता रहा.
ये प्यार ही तो है जिंदगी,
की हम चल भी न सके संग दो घड़ी.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

प्रेम – दीप


प्रिये प्यार करेंगे,
पूरी रात करेंगे।
एक दीप जला कर,
हम साथ रहेंगे।
सुबह हो जब, तेरी आँचल में मैं,
रात हो जब, मेरी बाहों में तू.
हर पल में तेरी,
साँसों का एहसास करेंगे।
मौसम हो एक सर्दी की,
या धुप खिली हो गर्मी वाली।
बरसात में भी, तेरी आँखों का,
हम जाम पिएंगे।

परमीत सिंह धुरंधर

प्यार


दिल, तोड़ कर, जा रहे हो जो तुम,
याद आएंगे बहुत, ये छुपा रहे हो तुम.
चंद लम्हों की ये मुलाकात नहीं,
जन्मो का प्यार ठुकरा रहे हो तुम.
मिट तो हम जाएंगे यूँ ही रो-रोकर,
चैन मिल न पायेगा तुम्हे, ये जानते हो तुम.

परमीत सिंह धुरंधर