नकाब


तड़प रहा हूँ सीने पे जख्म को लिए,
कहीं तो मिल ए दिलवर, नकाब को गिरा के.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements