दिया


दिया जलाने के लिए उसकी लौ को हाथो से ढकना होता है और दुनिया से अलग करना होता है.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements