तन्हाई


बदलते वक्त ने रोना सीखा दिया,
रोते वक्त ने बदलना सीखा दिया।
और इस कदर तन्हाई है मेरे साथ दोस्तों,
की अंधेरों ने हर दिया बुझा दिया।

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements