जवानी


उनकी जवानी का नशा है,
रातों की मस्ती,
और अंगों के चुभन से.
मेरी जवानी का मज़ा है,
जंगे – जमीन पे,
लहू बहाने में.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

जवानी है कुछ कर जाऊँगा


उजड़ा हुआ गुलिस्ता मुझे दे दो,
फूल खिला कर उनमे लौटा दूंगा।
मेरा दर्द तुम सकझते नहीं हो,
जवानी है कुछ कर जाऊँगा।
तुम थक कर, हार कर,
सत्ता के सिहासन से चिपके हो,
मैंने हल थामा है, जवानी की मस्ती में।
तुम काँटों पे कांटे बिछा लो,
मैं उनपे राहें बना लूंगा।
मेरा दर्द तुम सकझते नहीं हो,
जवानी है कुछ कर जाऊँगा।

परमीत सिंह धुरंधर

जवानी


दिल तो अभी भी जवानी लिए हैं,
कमर ही बस झुकी है रानी।
रौशनी निगाहों की कम हुई है,
साँसे तो आज भी है तूफानी।

परमीत सिंह धुरंधर