दुल्हन धमाल


जब से जवान भइल बारुं,
दुल्हन धमाल भइल बारु।
झूललतारु, खेललतारु,
ससुरा में झुलुआ डाल के.
ललुआ भइल, भलुआ भइल,
पर बारु अभिवो कमाल के.
निकललतारु, चललतारु,
घुंघटा तू डाल के.
दामाद उतरल, बहू उतरल,
पर बारु अभी वो सोलह-साल के.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements