अर्जुन – पुत्र अभिमन्यु


यूँ ही धरा पे,
अब नहीं धीरज धरूँगा,
तुम कहोगे,
तो आज से ही युद्ध होगा।
साँसों के आखिरी क्षणों तक,
भीषण संग्राम होगा।
लाएंगे तुम्हारे स्वप्न, या फिर,
कुछ नया ही अंजाम होगा।
मुठ्ठी भर हैं, तो ये मत सोचो,
की मसल दिए जाएंगे।
आज ग्रहों-नक्षत्रों,
और स्वयं सूरज तक,
अर्जुन – पुत्र अभिमन्यु का,
तेज होगा।
भीषण – बाणों की बर्षा होगी,
चारों दिशाओं से.
जर्रे – जर्रे पे आज, सुभद्रा – पुत्र,
के रथ का निशान होगा.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

अभिमन्यु संग अर्जुन के


असहनीय पीड़ा है जीवन बिन पिता के,
मत लिखो ऐसा कुरुक्षेत्र फिर ए दाता,
की अभिमन्यु हो बिन अर्जुन के.
समर में किसे हैं अब भय प्राणों का,
लेकिन तीरों को और बल मिलता,
जो होता अभिमन्यु संग अर्जुन के.

 

परमीत सिंह धुरंधर