एक शाम गुजार के दीवाना छोड़ दे


कुछ ख्वाब रह जाने दे सीने में,
अधरों तक लाके पैमाना छोड़ दे.
एक शाम गुजार के बस,
ये दीवाना छोड़ दे.

ना तू मिले फिर, ना मैं फिर मिलूं,
इन राहों को यूँ ही अधूरा छोड़ दे.
मेरी नजरें फिसल रही हैं तेरे जिस्म पे,
तू अब तो चोली की डोर छोड़ दे.

हवाओं का रुख बदलने लगा है,
मेरे दिल तू अब किसी का भी भरोसा छोड़ दे.
एक शाम गुजार के बस,
ये दीवाना छोड़ दे.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

बस सबुहा तक खुद को, मुझे दे दीजिये


यूँ ही नजरों से मिला के नजरों को,
घूँघट को हटा दीजिये।

चंद साँसे मेरी, छू लें आपकी अधरों को,
बस वक्षों को अपने मेरे सीने पे टिका दीजिये।

शर्म को यूँ ही पलकों में रखिये पिघला के,
बस चोली को वक्षों से गिरा दीजिये।

शौक मुझको हैं कैसे – कैसे, ये कैसे कहूं?
बस सबुहा तक खुद को, मुझे दे दीजिये।

 

परमीत सिंह धुरंधर

पुत्र उतना ही चतुर होगा बलम जी


प्रेम जितना मधुर होगा बलम जी,
पुत्र उतना ही चतुर होगा बलम जी.
अम्मा ने कहा था मायके में मुझसे,
सेज पे अंगों को ना रखना दूर बलम जी.

जाड़ा हो या हो बरसात बलम जी,
या गर्मी की हो रात बलम जी.
अम्मा ने कहा था हौले से कानों में,
प्रेम में मत रखना कोई लाज बलम जी.

अंगों से मेरे जितना खेलोगे बलम जी,
हौले – हौले, धीरे – धीरे बलम जी,
अम्मा बोली थी मुझसे मंडप में,
पुत्र उतना ही होगा वीर बलम जी.

माना की फाफड़ है किवाड़ बलम जी,
माना की टूटी है दीवार बलम जी.
अम्मा ने कहा था हौले से कानों में,
पडोसी को भी तो पता चले,
बजती कैसे है सितार बलम जी?

 

परमीत सिंह धुरंधर

माँ – बाप से अच्छी शहनाई लग रही


अपनी गलियाँ ही पराई लग रहीं,
बाबुल की लाड़ली खोई – खोई लग रही.
जाने कैसा जादू कर गया, एक परदेशी?
सखी – सहेली, सब खटाई लग रहीं।

हल्दी के चढ़ने का ऐसा असर,
माँ – बाप से अच्छी शहनाई लग रही.
सब सहने को अब है तैयार गोरी,
मायके से अच्छी, ससुराल की मिठाई लग रही.

छोटे से जीवन में क्या – क्या करें?
जीवन अब ये तन्हाई लग रही.
कैसे लड़ें, कैसे जीतें?
जब हारी हुई ये लड़ाई लग रही.

आशिक तो कब का मारा गया,
अब तो बेबस – लाचार उसकी दुहाई लग रही.
ऐसा होता है हुस्न और उसका त्रिया-चरित्र,
की सबको बस वही अबला और सताई लग रही.

 

परमीत सिंह धुरंधर

मेरा परुषार्थ असमर्थ है


देह की कामना,
देह को नहीं, मन को है.
देह की कामना,
देह से नहीं,
उसकी नग्नता, अर्ध-नग्नता से नहीं,
बल्कि उसपे चढ़े बस्त्रों से हैं.

देह की कामना,
सिर्फ शरीर, मांस, की नहीं,
उसकी अंगराई, हया, शर्म,
और उसकी साँसों के स्पंदन से है.
देह की कामना,
सिर्फ मुझपे जवानी आने,
और मेरी मर्दानगी के आभास से नहीं,
उसके नयनों की चंचलता,
अधरों की कपकपाहट,
कमर की लचक से है.

देह की कामना,
सिर्फ दृष्टि से परिभाषित नहीं,
देह की कामना,
स्वयं नारी के वक्षों, नितम्बों,
और उसके मादक लावायण्य,
विशाल, विकसित यौवन से,
संचालित है.

अतः मैं मिलना चाहता हूँ,
जानना चाहता हूँ, उन लोगो से,
जो ऐसे कामना को,
निरीह बच्चियों,
अर्ध-नग्न, नग्न स्त्रियों में देख लेते हैं.
वो उनकी सुंदरता,
उनके श्रृंगार की तुलना,
कैसे और किससे करते है?

मैं देखना चाहता हूँ,
समझना चाहता हूँ,
उनके ख़्वाबों, मेरे खवाबों की नारी के अंतर को,
उसके अंगों, वक्षों, हया और लावण्या के अंतर को.

शायद, अब देह की कामना,
नारी की लालसा,
सौंदर्य, रूप, अंग, मादकता से नहीं,
बस इससे है की,
वो सिर्फ एक नारी, मादा या लड़की है.

शायद, अब देह की कामना,
उसके अधरों, उसके नयनों, उसके जुल्फों से नहीं,
बस इससे है की,
वो यौन क्रिया को पूर्ण कर सकती है.

मेरी कलम अब भी,
असमर्थ है उस नारी जिस्म की कल्पना में,
जो वक्ष-विहीन, लावण्या – हीन,
अर्ध-नग्न या नग्न बस एक जिस्म हो.
और मेरा परुषार्थ भी असमर्थ है,
इस लालसा, देह की कामना,
को मुझमे जागृत करने,
और मुझे वासना से बसीभूत करने को.

 

परमीत सिंह धुरंधर

मैं एक धतूरा हूँ


जिंदगी ने मुझे उजाड़ा है बहुत,
पर मैं एक कैक्टस हूँ,
उग ही जाता हूँ.

बादलों ने कभी भी सींचा नहीं मुझे,
पर मैं एक बाबुल हूँ,
खिल ही जाता हूँ.

मुझमे कोई गुण नहीं,
ना ही कोई खूबियाँ।
पर मैं एक धतूरा हूँ,
शिव के चरणों में चढ़ ही जाता हूँ.

दुश्मनों के बीच, हर पल,
हर पल में उनकी साजिस।
मगर मैं एक शिव – भक्त हूँ,
अंत में जीत ही जाता हूँ.

परमीत सिंह धुरंधर

हवाओं का रुख


हवाओं का रुख कुछ ऐसा है,
की राज जानने के लिए,
वो मेरा नाम पढ़ने लगे हैं.

सब जानते हैं की मैं कुछ भी नहीं छुपाता,
पर वो मेरे आने – जाने, खाने -पीने,
पे अब नजर रखने लगे हैं.

 

परमीत सिंह धुरंधर