बोल मेरी अम्मा


क से कबूतर मंडराने लगे हैं,
छज्जे पे अपने।
दाना चुगा के आ जाऊं क्या,
बोल मेरी अम्मा?
गुटर – गू उनकी प्यारी मुझको,
तुझको भी मिल जाएगा बैठे – बैठे दामाद।
तू कहे तो जाल बिझा के आ जाऊं,
बोल मेरी अम्मा।
ह से हट्टे – कट्टे हैं, कहीं उड़ ना जाएँ,
देख कोई नया मोहल्ला।
तू कहे तो आँख लड़ा के,
फाँस लूँ उनको, मेरी अम्मा।

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s