अभिमन्यु संग अर्जुन के


असहनीय पीड़ा है जीवन बिन पिता के,
मत लिखो ऐसा कुरुक्षेत्र फिर ए दाता,
की अभिमन्यु हो बिन अर्जुन के.
समर में किसे हैं अब भय प्राणों का,
लेकिन तीरों को और बल मिलता,
जो होता अभिमन्यु संग अर्जुन के.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s