झूलती हैं इस कदर मेरे जिस्म पे


मेरी ताजपोशी पे, वो आई संवर के.
पंडतिओं के मंत्र, और वो थी मेरे जेहन में.
बाला की खूबसूरत, मेरी जरुरत बन गयी.
एक ही रात में, सारी धरती जन्नत बन गयी.
अब मिलती है सरे-आम सड़क पे,
और चलती हैं गले को बाहों में थाम के.
की झूलती हैं इस कदर मेरे जिस्म पे, हर घड़ी,
की रोएँ – रोएँ को उनकी चाहत हो गयी.

It about arrange marriage in India…how it change the life of a guy. There is nothing bad in such marriage compare to Love marriage. In fact, it is more romantic and more thrilling.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s