ईमान का बोझ


तेरी आँखों का रंग,
यूँ बदलता है,
मेरा सितम ही मुझपे,
अब भारी पड़ता है.
गुनाहों का बोझ कब तक,
उठायें.
अब तो ईमान का बोझ,
भी गुनाह लगता है.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

The birthday in November


A long twelve-year,

But, still I remember,

Your curly hair.

Your nose,

Your smile,

And,

Eyes full of tears.

A long twelve-year,

But, still I remember,

Your pain,

Your passion,

And,

Your fear.

A long twelve-year,

But still I remember,

Your touch,

Your breath,

And,

Your desire.

A long twelve-year,

But, still I remember,

A knife in your finger.

Cake,

And,

The birthday in November.

But, unable to understand,

How you forgot everything,

In a night, dear .

Parmit Singh Dhurandhar

इश्क़


इसी धरा पे हम भी जिए हैं,
इश्क़ का मजा लिए.
हर मोड़ पे वो खड़ी थी,
और हम थे गुलाब लिए.
उनके अब्बूज़ान की,
निगाहें बड़ी सख्त थी.
और मेरी निगाहों से,
हो जाती वो मस्त थीं.
आज तक याद है,
किनते पाँव चलती थीं,
वो घर से इबादतगाह तक.
और कितने पाँव,
स्कूल से घर तक.

परमीत सिंह धुरंधर

हंसुआ


हंसुआ ई चलता हमरा जिगर पे,
ऐसे मत मुस्का, आज बारु अकेले,
चउरा के खेत में.
मन करअता की आज रोक ली रात में,
खेत औगरल जाइ दूनी मिलके साथ में.

परमीत सिंह धुरंधर

तिरस्कार


हमने प्रेम में,
इतने तिरस्कार झेलें हैं.
आंसू भी निकलने से,
अब इंकार करते हैं.
चाँद कभी भी,
पलट के अमावस कर दे.
सैकड़ो सितारे भी,
इसके आगे विवस दीखते हैं.
जमाने का क्या है?
यहाँ तो सभी, दूसरों के चूल्हे,
की आग पे सेंकते हैं.
हम इस कदर,
दिल को जला चुके हैं,
हर शहर में, हुस्नवालों से पहले,
हम मयखाना ढूंढते हैं.

परमीत सिंह धुरंधर

तो समझो


दिल जो उमंगें लेने लगे.
तो समझो की जवानी है.
दिल जो बैठ जाए.
तो समझो कोई कहानी है.
दिल जो,
गुजरने लगे मयखाने से,
तो समझो,
कोई आँचल बदलने लगा है.
दिल जो,
सवरने लगे गुसलखाने में,
तो समझो,
कोई सपनो में आने लगा है.

परमीत सिंह धुरंधर