मशाल


ए सितारों बरसना सीखो,
बादलों से मेरी जंग छिड़ चुकी है.
अब वो नहीं बरसेंगे मेरी जमीन पे,
और मैं नहीं विचरने दूंगा उन्हें,
अपनी सरहदों पे.
ए सितारों गरजना सीखो,
बिजली से मेरी जंग छिड़ चुकी है.
वो गरजेगी हमारी सरहदों में,
डराने को हमें.
हम भी ललकारेंगे उसे,
अपनी जमीन पे मशाल जला के.

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

मैं ख़्वाब देखता हूँ


मैं ख़्वाब देखता हूँ,
मैं ख़्वाब देखता हूँ.
मेरे वृक्षों पे फल नहीं लगते,
फिर भी मैं उनको सींचता हूँ,
मैं ख़्वाब देखता हूँ.
बागों में अपने मैं आम नहीं,
शीशम लगता हूँ,
मैं ख़्वाब देखता हूँ.
मेरे तालाब की मछलियाँ,
किनारों पे तैरती हैं.
और मैं बीच पानी में,
बंसी डालता हूँ,
मैं ख़्वाब देखता हूँ.
हर शाम हारता हूँ,
युद्ध जीवन का.
पर नयी सुबह में,
नयी रणभेरी छेड़ता हूँ,
मैं ख़्वाब देखता हूँ.

परमीत सिंह धुरंधर

दिवाली


आज दिवाली में बलम जी,
मुझे चाहिए नए झुमके.
और जलाऊँगी दिए,
आपके संग घूम- घूम के.
आज दिवाली में बलम जी,
मैं जाउंगी मायके।
और जलाऊँगी दिए,
सखियों संग सज-सवर के.

परमीत सिंह धुरंधर

जवानी


जवानी के ढलने का इंतज़ार कर रहा हूँ,
वो उम्र देख रही हैं मेरी,
और मैं दिल से जवान हो रहा हूँ.
कल तक जो छत पे निकलती थीं,
गलियों में देखती थीं.
अब घंटो बैठती हैं आईने के पास,
और मैं उनकी गलियों में,
चक्कर लगा रहा हूँ.

परमीत सिंह धुरंधर

शादी का मंडप


अब भूख लगी है,
प्यास मिटने के बाद,
की रात का इंतज़ार नहीं होता,
मंडप में तुम्हे देखने के बाद.
छोड़ो, ये सात-फेरों की रस्में,
मेरी किस्मत पे एतबार नहीं,
ए मालिक,
तुझे देखने के बाद.
बहुत दूर से आया हूँ,
तुम्हे अपना बनाने को.
अब पर्दा बर्दास्त नहीं होता,
यूँ नजरे मिलाने के बाद.

परमीत सिंह धुरंधर