नज़र


उनके नज़र से नज़ाकत ऐसे खो गयी,
रूह मेरी थी वो क़यामत ढा गयी.
रुख ऐसे मोड़ा की क्या बताऊँ,
दिन में ही मुझे चाँद-तारे दिखा गयी.
मोहब्बत की अब नहीं है कोई तमन्ना,
वो एक रात ऐसे अपने होठों से पीला गयीं।

 

परमीत सिंह धुरंधर

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s